Sale!

Babool Gond / Edible Acacia Gum (100 gm)

125.00

  • Original Babool Gond (Acacia Gum) from Satpuda Mountains region.
  • 100% Original and Pure.
  • Expectorant and detoxifier. Good in winter season to keep body warm and healthy.
  • Best for Women health (After pregnancy), Relieve pain and bleeding during periods,Stomach problems

  • Order Gets Delivered within 5 Days Across India
  • You will receive courier details by text message after your order gets dispatched
SKU: B08NZV9YYF Category: Tag:

Description

Acacia arabica commonly known as Babool, Gum arabic tree is a medicinal tree which is found throughout the dry and sandy parts of India. Its use as datun for teeth cleaning is well known. Regular use of Babool datun helps to strengthens gums, teeth and also reduces plaque accumulation and gingival inflammation. Apart from babool it is also known as gum arabic tree, Babul/Kikar, Egyptian thorn, Sant tree, Al-sant or prickly acacia, thorn mimosa or prickly acacia. The other parts of Babool tree used for medicinal purpose are bark, gum, leaves, seeds and pods. Babool leaves, bark, gum and seeds all have antibacterial, antihistaminic, anti-inflammatory, astringent and haemostatic properties.

बबूल गोंद

को इंग्लिश में अकेसिया (Acacia) कहा जाता है। अकेसिया का अर्थ गोंद ही होता है। यह गोंद बबूल के पेड़ के तनों और शाखाओं से निकलता है। इस गोंद का इस्तेमाल आयुर्वेदिक दवाई बनाने के साथ ही लड्डू बनाने के लिए भी किया जाता है। औषधीय गुणों से भरपूर बबूल गोंद को आप कई तरह के स्वास्थ्य लाभ के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं। आयुर्वेद में बबूल के गोंद का बहुत फायदा बताया गया है।

बबूल के गोंद से मिलने फायदे:

कमर दर्द में फायदेमंद

अगर किसी व्यक्ति को कमर में दर्द की समस्या है तो इसके लिए आप बबूल की छाल फली और गोंद बराबर मात्रा में मिलाकर इसको पीस लीजिए एक चम्मच की मात्रा में दिन में 3 बार इसका सेवन कीजिए अगर आप ऐसा करेंगे तो आपको कमर दर्द में राहत प्राप्त होगा।

सिर दर्द करें दूर

यदि किसी व्यक्ति के सिर में दर्द रहता है तो इसके लिए आप पानी में बबूल का गोंद घिसकर सिर पर लगाएं ऐसा करने से आपके सिर का दर्द दूर हो जाएगा।

मधुमेह में फायदेमंद

जिन व्यक्तियों को मधुमेह की बीमारी है उनके लिए बबूल का गोंद बहुत ही फायदेमंद साबित होगा आप 3 ग्राम बबूल के गोंद का चूर्ण पानी के साथ या गाय के दूध के साथ 3 दिन में तीन बार रोजाना सेवन कीजिए यदि आप ऐसा करते हैं तो आपको मधुमेह में फायदा मिलेगा।

खांसी करता है दूर

अगर किसी व्यक्ति को खांसी की परेशानी है तो इसके लिए बबूल का गोंद मुंह में रखकर चूसे इससे आपकी खांसी ठीक हो जाएगी।

बवासीर में लाभकारी

अगर किसी व्यक्ति को बादी बवासीर या खूनी बवासीर की परेशानी है तो उनके लिए बबूल का गोंद किसी वरदान से कम नहीं है आप इसके लिए बबूल का गोंद कहरवा समई और गेरू 10-10 ग्राम लेकर इसको पीसकर चूर्ण बना लीजिए उसके पश्चात 1 से 2 ग्राम चूर्ण को गाय के दूध की छाछ में मिलाकर 2 से 3 सप्ताह तक सेवन करें आपको बवासीर में आराम मिलेगा।

बबूल गोंद (Babool Gond) खाने का तरीका (how to take Babool Gond) :

1) गोंद को पंजीरी में मिलाकर खा सकते हैं. आटे, मखाने, सूखे मेवे और चीनी को गोंद के साथ भूनकर पंजीरी बना सकते हैं.
2) नारियल के बूरे (खोपरा खीस), ख्श्ख्श सूखे खजूर,के दाने और बादाम को गोंद के साथ घी भूनकर लड्डू बनाए जा सकते हैं.
3) आप चाहें तो गोंद की चिक्की भी सकते हैं. गोंद के लड्डू की तरह ही इसकी चिक्की भी सर्दियों में काफी फायदेमंद होती है.
4) गोंद भूनते/तलते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि यह जले नहीं और अत्यधिक भूरे रंग का न हो जाए. अगर ऐसा हुआ तो इसका स्वाद कड़वा हो जाएगा. 5) ऊपर दी गयी किसी भी चीज़ में ये ध्यान रखें की 1 खुराक में गोंद की मात्रा लगभग 5 ग्राम हो.
6) इसे रोज़ सुबह इस्तेमाल करें.

Additional information

Weight 400 g