Sale!

Kashmiri Lahsun (50 gm)

300.00 150.00

  • Kashmiri lehsun is also known as Snow mountain single clove Garlic or single clove garlic.
  • It groves in typical Himalayan region
  • 100% Pure. NORMALLY IT GETS DELIVERED

  • Order Gets Delivered within 5 Days Across India
  • You will receive courier details by text message after your order gets dispatched
Add to Wishlist
Add to Wishlist

Description

कश्मीरी लहसुन के फायदे (Health Benefits of Kashmiri Lehsun):

काश्मिरी लहसून जिसे स्नो माउंटेन गार्लिक (snow mountain garlic) या एक पोथी लहसून या एलियम सतिवुम के रूप में भी जाना जाता है, प्रचुर मात्रा में औषधीय गुणों वाले सबसे शक्तिशाली और लोकप्रिय जड़ी बूटियों में से एक है। कश्मीरी लहसुन भारत में सिर्फ हिमालय से मिलता है, वह भी सिर्फ हिमालय के गैर प्रदूषित हिस्सों में जब स्नो की चादर हिमालय से हट जाती है। अम्लीय विशेषताओं के कारण सामान्य लहसुन का कच्चे / पूरे रूप में सेवन किया जाना मुश्किल है। कश्मीरी लहसून आसानी से खाया जा सकता है। यह आपके पेट और / या आंतों को नुकसान नहीं पहुंचाता है। वास्तव में, यह शोध के अनुसार हमारी आंतों के चयापचय में सुधार करता है।

हाल ही की कुछ खोजों के मुताबिक , यह पाया गया है कि लहसुन खाने से कैंसर होने का खतरा 50 प्रतिशत तक कम हो जाता है | यह प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने के अलावा मधुमेह और हृदय रोगों को दूर रखने में मदद करता है | कश्मीरी लहसुन खाने के कुछ अन्य महत्वपूर्ण स्वास्थ्य लाभ भी होते हैं जैसे मस्तिष्क तंत्रिकाओं का revitalization और मस्तिष्क के ट्यूमर कि रोकथाम |

कश्मीरी लहसुन का उपयोग कैसे करें –

कश्मीरी लहसुन यह जम्मू कशमीर का पुराना पौधा है| इसमें कई स्वास्थ्य लाभ हैं और लाघभाग हर बीमारी के लिए व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है| कुछ सामान्य बीमारियों के लिए कश्मीरी लहसुन का उपयोग निम्नलिखित है :
o मुहांसों के लिए : 2 या 3 फांक को छीलें और प्रभावित भाग पर 10 मिनट तक मालिश करें |
o अस्थमा के लिए : लहसुन की 2 फली लें और उसको छील लें| एक ग्लास दूध में उबालकर रात को पीएँ|
o पाचन विकारों के लिए : लहसुन की 2 फली लें| उसको 1 कप दूध या पानी में उबाल लें| दिन में 1 बार इसका सेवन करें|
o उच्च रक्तचाप के लिए : लहसुन की 2 फली को खाली पेट खाएं|
o उच्च कोलेस्ट्रॉल के लिए : लहसुन की 3 या 4 फली को छीलें और खाली पेट खालें|
o घावों के लिए : लहसुन के रस को निचोड लें और थोड़े पानी के साथ मिलाएँ| इस मिश्रण से घाव को दिन में दो बार धोएँ|

Additional information

Weight 100 g